13 min

“हर कोई चाहता है इक मुट्ठी आसमाँ....‪"‬ Ek Geet Sau Afsane

    • Music Commentary

आलेख : सुजॉय चटर्जी

स्वर :  पूजा अनिल 

प्रस्तुति : संज्ञा टण्डन

नमस्कार दोस्तों, ’एक गीत सौ अफ़साने’ की एक और कड़ी के साथ हम फिर हाज़िर हैं। फ़िल्म-संगीत की रचना प्रक्रिया और विभिन्न पहलुओं से सम्बन्धित रोचक प्रसंगों, दिलचस्प क़िस्सों और यादगार घटनाओं को समेटता है ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ का यह साप्ताहिक स्तम्भ। विश्वसनीय सूत्रों से प्राप्त जानकारियों और हमारे शोधकार्ताओं के निरन्तर खोज-बीन से इकट्ठा किए तथ्यों से परिपूर्ण है ’एक गीत सौ अफ़साने’ की यह श्रॄंखला। आज के अंक के लिए हमने चुना है वर्ष1973 की कमचर्चित फ़िल्म ’एक मुट्ठी आसमाँ’ का शीर्षक गीत "हर कोई चाहता है इक मुट्ठी आसमाँ"। किशोर कुमार की आवाज़; गीतकार इन्दीवर, और संगीतकार मदन मोहन  ये सब, आज के अंक में।

आलेख : सुजॉय चटर्जी

स्वर :  पूजा अनिल 

प्रस्तुति : संज्ञा टण्डन

नमस्कार दोस्तों, ’एक गीत सौ अफ़साने’ की एक और कड़ी के साथ हम फिर हाज़िर हैं। फ़िल्म-संगीत की रचना प्रक्रिया और विभिन्न पहलुओं से सम्बन्धित रोचक प्रसंगों, दिलचस्प क़िस्सों और यादगार घटनाओं को समेटता है ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ का यह साप्ताहिक स्तम्भ। विश्वसनीय सूत्रों से प्राप्त जानकारियों और हमारे शोधकार्ताओं के निरन्तर खोज-बीन से इकट्ठा किए तथ्यों से परिपूर्ण है ’एक गीत सौ अफ़साने’ की यह श्रॄंखला। आज के अंक के लिए हमने चुना है वर्ष1973 की कमचर्चित फ़िल्म ’एक मुट्ठी आसमाँ’ का शीर्षक गीत "हर कोई चाहता है इक मुट्ठी आसमाँ"। किशोर कुमार की आवाज़; गीतकार इन्दीवर, और संगीतकार मदन मोहन  ये सब, आज के अंक में।

13 min