100 episodes

वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

संयुक्त राष्ट्र समाचा‪र‬ United Nations

    • News
    • 4.8 • 4 Ratings

वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 3 दिसम्बर 2021

    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 3 दिसम्बर 2021

    इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

    कोरोनावायरस के ओमिक्रॉन वैरीएण्ट के फैलाव से गहराई चिन्ता, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने देशों से कहा, घबराहट से बचने और स्वासथ्य प्रणालियों को पुख़्ता बनाने का समय
    विश्व भर में एक अरब विकलांगजन के लिये कोविड-19 ने बढ़ाई मुश्किलें
    एक ख़ास बातचीत माउंट ऐवसरेस्ट के शिखर पर पहुँचने वाली पहली विकलांग महिला अरुणिमा सिन्हा के साथ
    भारत में कश्मीरी मानवाधिकार कार्यकर्ता ख़ुर्रम परवेज़ की गिरफ़्तारी पर यूएन मानवाधिकार कार्यालय ने जताई चिन्ता
    इण्टरनैट की उपलब्धता में आए उछाल के बावजूद, निर्धनजन इन सेवाओं तक पहुँच से वंचित

     

    • 10 min
    विकलांगजन को दया की नहीं, समर्थन की है ज़रूरत – अरूणिमा सिन्हा

    विकलांगजन को दया की नहीं, समर्थन की है ज़रूरत – अरूणिमा सिन्हा

    एक ट्रेन हादसे में अपना पैर गँवाने के बाद, पूर्व वॉलीबॉल खिलाड़ी अरूणिमा सिन्हा ने अपने जीवन को एक नई दिशा में मोड़ दिया. 2013 में, वह विश्व के सबसे ऊँचे पर्वत शिखर, माउंट एवरेस्ट तक पहुँचने वाली पहली विकलांग महिला बन गईं. 

    3 दिसम्बर को अन्तरराष्ट्रीय विकलांगजन दिवस के अवसर पर, यूएन न्यूज़ हिन्दी के साथ एक ख़ास बातचीत में अरूणिमा सिन्हा ने कहा कि विकलांगजन को दया की नहीं, बल्कि समर्थन प्रदान किये जाने की ज़रूरत है. 

    अरूणिमा सिन्हा को वर्ष 2017 में नीति आयोग और भारत में यूएन कार्यालय की साझीदारी में ‘'Women Transforming India Awards' से भी सम्मानित किया गया था.  

    उन्होंने यूएन न्यूज़ की प्रतिष्ठा जैन के साथ एक साथ इण्टरव्यू में बताया कि जीवन की हर चुनौती एक सबक़ सिखाती है.

    उनका लक्ष्य अन्य विकलांगजन की सहायता करना और उन्हें दृढ़ इच्छाशक्ति व लगन के साथ अपने लक्ष्य को पाने के लिये प्रोत्साहित करना है. 

    • 8 min
    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 26 नवम्बर 2021

    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 26 नवम्बर 2021

    इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

    दक्षिण अफ़्रीका में कोविड-19 का नया ख़तरनाक वैरिएण्ट चिन्हित, योरोप में संक्रमण में फिर चिन्ताजनक उछाल.
    वरिष्ठ यूएन अधिकारियों ने, लिंग आधारित हिंसा को बताया एक वैश्विक संकट, कोरोनावायरस महामारी के दौरान बढ़ीं चुनौतियाँ.
    संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने, भारत में तीन विवादास्पद कृषि क़ानून वापिस लिये जाने का किया स्वागत.
    दुनिया भर में तीन अरब लोगों को मयस्सर नहीं है स्वस्थ भोजन ख़ुराक.
    केवल पेट भरने के बजाय, समुचित पोषण पर ध्यान देना है ज़रूरी.

     

    • 12 min
    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 19 नवम्बर 2021

    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 19 नवम्बर 2021

    इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

    कोविड-19 के उपचार के लिये नई एण्टीवायरल दवा से मदद मिलने की उम्मीद, ज़रूरतमन्द देशों में उपलब्धता बढ़ाने के लिये लाइसेंस समझौता
    तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों की संख्या में गिरावट दर्ज, इस्तेमाल पर रोक के लिये वैश्विक निवेश का आहवान
    यूएन की विशेष प्रतिनिधि की चेतावनी, अफ़ग़ान जनता का साथ, इस लम्हे छोड़ना, होगी एक ऐतिहासिक ग़लती 
    सर्वाकइल कैंसर को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिये, न्यायसंगत जाँच सुविधा, वैक्सीन और उपचार की दरकार
    और एक बातचीत, यूएन महिला पुलिस अधिकारी पुरस्कार’ से सम्मानित नेपाल की पुलिस अधीक्षक संज्ञा मल्ला के साथ.

    • 10 min
    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 12 नवम्बर 2021

    यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 12 नवम्बर 2021

    इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

    ​स्कॉटलैण्ड के ग्लासगो में यूएन जलवायु सम्मेलन पर टिकी दुनिया की निग़ाहें, अन्तिम चरण की वार्ताओं का दौर, बढ़ा निर्धारित समय से आगे 
    यूएन महासचिव ने कहा, ग्लासगो सम्मेलन में अब तक हुई घोषणाएँ उत्साहजनक, मगर पर्याप्त नहीं
    एक ख़ास बातचीत ग्लासगो सम्मेलन में हिस्सा ले रहीं भारत की युवा जलवायु कार्यकर्ता हीता लखानी के साथ
    योरोप में कोविड-19 संक्रमण मामलों में आई तेज़ी चिन्ताजनक
    डायबटीज़ के साथ जीवन गुज़ार रहे बहुत से लोगों के लिये इन्सुलिन है ज़रूरी, मगर पहुँच से बाहर
    और, नेपाल की संज्ञा मल्ला को, 2021 की सर्वश्रेष्ठ महिला पुलिस अधिकारी का सम्मान

    • 10 min
    कॉप26 सम्मेलन से जुड़ी युवाओं की उम्मीदें

    कॉप26 सम्मेलन से जुड़ी युवाओं की उम्मीदें

    स्कॉटलैण्ड के ग्लासगो शहर में संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन (कॉप26) में हिस्सा ले रहीं, भारत की एक युवा जलवायु कार्यकर्ता हीता लखानी का कहना है कि हाल के वर्षों में जलवायु वार्ताओं में युवाओं की भूमिका बढ़ी है. 

    हीता लखानी मुम्बई में एक जलवायु शिक्षिका हैं, और युवा नेतृत्व वाले संगठनों के समूह, YOUNGO के लिये ‘ग्लोबल साउथ’ की समन्वयक हैं. हीता, भारत में विभिन्न गतिविधियों के तहत युवाओं में मौजूदा जलवायु चुनौती के प्रति समझ और अन्तरराष्ट्रीय प्रक्रियाओं के सम्बन्ध में जानकारी बढ़ाने के लिये प्रयासरत है. 

    नई दिल्ली में हमारी सहयोगी, अंशु शर्मा ने हीता लखानी से कॉप 26 पर ग्लासगो में चल रही गतिविधियों पर विस्तार से बातचीत की.

    • 8 min

Customer Reviews

4.8 out of 5
4 Ratings

4 Ratings

Top Podcasts In News

You Might Also Like

More by United Nations